Monday, 29 June 2015

नई मैन्यूस्मृति-1

छोटी कहानी

वे आए थे।
श्रद्धा के मारे मेरा दिमाग़ मुंदा जा रहा था।
यूं भी, हमने बचपन से ही, प्रगतिशीलता भी भक्ति में मिला-मिलाकर खाई थी।
चांद खिला हुआ था, वे खिलखिला रहे थे, मैं खील-खील हुई जा रही थी।
जड़ नींद में अलंकार का ऐसा सुंदर प्रदर्शन! मैंने ख़ुदको इसके लिए पांच अंक दिए।

खाने में क्या लेंगे ?
बस परंपरा, और क्या! ऊपर से प्रगतिशीलता का तड़का मार देना। बाक़ी जो भी नॉर्मल खाना होता है वो तो होगा ही।
वे मुंह खोलते थे तो लगता था आकाशवाणी हो रही है।
एक बार यूंही किसीने मुझसे पूछ लिया था कि आकाशवाणी क्या होती है, हमने तो कभी आकाश से कोई वाणी निकलती सुनी नहीं, बादल ज़रुर बीच-बीच में भरभराते रहते हैं।
मैं हकबकाई। नहीं अचकचाई ठीक रहेगा। मैं संभल गई। पहले तो मैंने सोचा उसकी बातों का उल्टा-सीधा मतलब निकाल कर लोगों को बहका दूं। पर लोग वहां थे ही नहीं। मैंने उसे ऐसे घूरा जैसे कोई अक़्लमंद किसी मूर्ख को घूरता है। वो था भी मूर्ख ; उसने इसे सच समझा और भाग गया।

हम लोग सदियों से माहौल बनाए हुए हैं।

वे परंपरा, प्रगतिशीलता, सभ्यता, देशप्रेम, संस्कार, प्रतिष्ठा...आदि की खिचड़ी करके खा रहे थे। खिचड़ी उनके पेट के लिए मुफ़ीद है। बड़े-बड़े हाथों को सानकर खाते हुए वे कितने दर्शनीय लग रहे थे। दर्शन में मेरा काफ़ी इंट्रेस्ट रहा है।

क्या लिखूं? वे बोले।
कुछ भी लिख दीजिए। फ़ोटोकॉपी ही दे दीजिए। किसीके भी लिखे की दे दीजिए। साइन मार दीजिए। घसीटा ही मार दीजिए। आपका तो हाथ भी लग जाए तो जगत मिथ्या हो उठता है। मैं तो चाहती हूं आप मेरा अस्तित्व ही मिटा दें ; अपना आदमी कुछ भी करे, सब अच्छा लगता है।

हम एक-दूसरे को ख़ूब चढ़ाते थे, प्रोत्साहन देते थे।
वक़्त गल्पकथाओं की तरह बीत रहा था।

0

सुबह उठी तो मैं सती हो चुकी थी।

0

वे आराम से बाहर निकले और पड़ोस का दरवाज़ा खटखटाया। अंदर से एक सुंदर स्त्री बाहर निकली।

आपके पड़ोस में कोई रहता नहीं क्या ? कबसे दरवाज़ा खटखटा रहा हूं, कोई आता ही नहीं। क्या थोड़ी देर यहां सुस्ता सकता हूं ?



-संजय ग्रोवर

29-06-2015


No comments:

Post a Comment

Translate

अंग्रेज़ी के ब्लॉग

हास्य व्यंग्य ब्लॉग